• HOME
  • BLOG DETAIL
Suraj Kumar Goel

Suraj Kumar Goel

कल 2 राज्यों महाराष्ट्र और हरियाणा में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आए जोकि थोड़े चौंकाने वाले थे क्योंकि ये नतीजे न्यूज़ चैनल के Exit Poll के नतीजों से अलग थे। ज्यादातर न्यूज़ चैनल के Exit Poll BJP के पक्ष में थे जहाँ BJP को भारी बहुमत के साथ जीतते हुए दिखाया जा रहा था, पर वास्तविक परिणाम कुछ अलग निकला।

हालाँकि दोनों राज्यों में BJP ने ज्यादा सीटें हासिल की है पर उम्मीद के मुताबिक उतनी बड़ी जीत नहीं हो पाई और जिसके कारण उसे हरियाणा में जोड़-तोड़ की सरकार बनानी पड़ रही है।

इस चुनाव परिणाम को देखते हुए कुछ बातों पे ध्यान देने की जरुरत है:-

- सत्ता की उलट पलट: इन परिणामों में आगामी समय के लिए देश की राजनीती के बेहद स्पष्ट और आवश्यक संकेत सुनाई दे रहें हैं जहाँ सत्ता की रोटी अलटती-पलटती रहती है और यह बात हर नेता को याद रखनी चाहिए किन्तु सत्ता के नशे में ये अक्सर भूल जाते हैं।

- देश के आर्थिक संकट और बेरोजगारी का मजाक उड़ाना BJP के लिए अच्छा नहीं रहा, ओला-उबर के कारण गाड़ियां नहीं बिकती है, अमेज़ॉन-फिल्पकार्ट से खरीदारी हो रही है, ऐसी बेतुकी बातें कह कर मुद्दों से ध्यान हटाया गया।

- हर ब्रांड की एक एक्सपायरी डेट होती है, और ये डेट नजदीक आता दिख रहा है। BJP इसे जितना जल्दी समझ ले अच्छा रहेगा। बहुत हुआ हिन्दू-मुस्लिम, पाकिस्तान, नेहरू, मंदिर-मस्जिद, इससे किसी का पेट नहीं भरने वाला, जनता रोजगार शिक्षा और स्वास्थ्य की सुविधा चाह रही है।

- देश की जनता ने नोटबंदी और GST जैसे बड़े फैसलों का स्वागत किया, बैंक खाते में रखे जाने वाले minimum balance को भी स्वीकार किया, लोगों का भरोसा था कि बैंको में उनका पैसा सुरक्षित है, पर PMC जैसे बैंक का हाल देख कर लोगों का भरोसा सरकार से उठता जा रहा है।

- BJP के नेता को जमीनी स्तर के कार्यकर्ता की ओर ध्यान देना होगा, जनता के समस्याओं से जुड़ना होगा। अच्छे कर्मठ कार्यकर्ता को छोड़कर अल्पेश ठाकोर और Tik-Tok बनाने वाली मैडम को टिकट देना BJP को महंगा पड़ा। इसके साथ ही बहुत सारे ऐसे कांड हुए है जहाँ BJP अपने कार्यकर्ताओं को सही सुरक्षा देने में नाकामयाब रही, और इसके कारण लोगों का BJP से भरोसा उठता जा रहा है।

कल के चुनाव नतीजे तो बस आगाज मात्र है, अगर BJP अभी भी नहीं संभालती है तो आने वाले समय के चुनाव के राह उतने आसान नहीं होंगे और उसका अंजाम बीजेपी को भुगतना होगा।

और हाँ "मोदी लहार" के भरोसे हमेशा जितना मुश्किल है!