• HOME
  • BLOG DETAIL
Suraj Kumar Goel

Suraj Kumar Goel

हे नमो देश की अधूरी आशाएँ अभी बाकी है।

उम्मीदों और आशाओं की नई किरण देश में जगी है,
नमो नमो नमो, कमल ही कमल सजी है।

नई सरकार, नए लोकतंत्र का ताना-बाना बुन रहा है भारत,
करोड़ों दिलों की अधूरी आशाएँ अभी बाकी है।

तेरा शेर सा दहाड़ना, तेरी आवाज़ में कई आवाज़ अभी बाकी है,
हे नमो देश की अधूरी आशाएँ अभी बाकी है।

नई सोच और एक मुश्कान के साथ देश में हुआ है सवेरा,
घर-घर पे खुशियाँ डालने वाली है डेरा।

समर्पित है तुम्हें करोड़ों दिलों का विश्वास,
हे नमो देश की अधूरी आशाएँ अभी बाकी है।