• HOME
  • BLOG DETAIL
Suraj Kumar Goel

Suraj Kumar Goel

आज हल्की हल्की बारिश हुई, सर्द हवा का रक़्स भी था।
फूल भी निखरे निखरे हैं, उसपे आपका अक्स भी था।
आज है बादल काले गहरे, ना है सूरज का लहू।
नशा तो जरूर है उनकी याद का, कुछ नशा इस धीमी बरसात का था।