• HOME
  • BLOG DETAIL
Suraj Kumar Goel

Suraj Kumar Goel

कल 15 अगस्त था, आफिस मे Holiday था।  कमरे मे बैठे - बैठे  बोर हो रहे थे। सोचा क्या किया जाये। जहां सोचने लगे तो बोरियत का वोल्टेज डाउन हो गया। सोचा कि सोचने का काम किया जाये। इससे बोरियत अपने आप कम हो जायेगी। जहां सोचना शुरु किया तो मामला और आगे बढ़ गया। तो फिर हमने काले धन के बारे मे सोचना शुरु किया।

 

आजकल काले  धन की वापसी का हल्ला मचा हुआ है! हर पार्टी काला धन वापस लाना चाहती है। जिसे देखो वह बिना पूछे कसम खाने लगता है- काला धन वापस लाना है।
"जैसे विश्वसुंदरी प्रतियोगिता के फ़ाइनल राउंड में सुन्दरियां अपने जीवन  का लक्ष्य समाज सेवा बताती हैं वैसे ही हर पार्टी अपने घोषणा पत्र में काला धन वापसी को मुख्य एजेंडा बताती है।" लगता है अब काला धन वापस आकर ही रहेगा।

मैं कल्पना करता हूं कि काला धन आयेगा तो कैसे सीन बनेंगे।

जब वो आयेगा तो उसके लिये रेडकारपेट वेलकम हो शायद। बाजे-गाजे के साथ हवाई अड्डे पर देश के गणमान्य लोग लेने जायें उसे। माला-साला पहनायें। फ़ोटो शेसन हो। पत्रकार पूछें-  काले धन जी आपको वापस आने पर कैसा लग रहा है।

काला धन शायद मुस्कराते हुये- आना जाना तो रहता ही था, लेकिन इस बार आना बहुत अच्छा लग रहा था। फ़ील लाइक कमिंग होम।

तमाम छुटभैये और माफ़िया काले धन को उसी तरह निहारे हुये देखेंगे जैसे फ़िल्मों में मायें अपने अवैध बच्चों को निहारती हैं- देखो कैसा गबरू हो गया है विदेश में जाकर। एकदम गोरा-चिट्ठा-शफ़्फ़ाक। पता नहीं कभी इसको अपनी मां/बाप की याद आती होगी कि नहीं।

सुना है काला धन लाखों करोड़ में है। सरकार में जब करोंड़ों खर्च करने की बात होती है तो कोई न कोई मंत्रालय बनता है। काला धन जब वापस आयेगा तो कोई काला धन वापसी मंत्रालय बनेगा। मंत्रियों में उस मंत्रालय को पाने के लिये हल्ला मचेगा। गठबंधन सरकार में समर्थन देने के बदले काला धन मंत्रालय मांगेगी।

मंत्रालय में अधिकारी चुने जायेंगे। सबसे ताकतवर आई.ए.एस. को मंत्रालय का सचिव बनाया जायेगा। वह अपने सबसे चहेते अधिकारी को स्विटरलैंड से धन वापसी वाले विभाग में तैनात करेगा। जिससे खुंदक खायेगा उसको युगांडा/घाना से धन वापसी मंत्रालय में पटक देगा।

बच्चों को लोग आशीर्वाद देते हुये कहेंगे- जा बेटा खूब तरक्की कर। काला धन मंत्री बन। आई.ए.एस. का टॉपर अपनी वरीयता में ब्लैक मनी मिनिस्ट्री को सबसे ऊपर रखेगा। राज्यों विभिन्न मंत्रालयों के कर्मचारी काला धन मंत्रालय में डेपुटेशन के लिये जुगाड़ लायेंगे। पत्नियां मनौती मानेंगी, व्रत , उपवास रखेंगी। सत्यनारायण कथा में अध्याय जुड़ेगा- भगवान सत्यनारायण की कथा सुनते ही उसका ब्लैक मनी मंत्रालय में पोस्टिंग का आदेश आ गया। जैसे उनके दिन बहुरे वैसे सबके बहुरैं।

बड़ी-बड़ी बिल्डिंगे बनेंगी आया हुआ पैसा धरने के लिये। क्या पता बिल्डिंगे बन न पायें और काला धन वापस आ जाये देश में। वह यहां आकर भुनभुनाने लगे –जब धरने का बूता नहीं तो बुलाया काहे हमें। कोई जागरूक काला धन अपने साथ बुरे सुलूक की शिकायत काला धन अधिकार आयोग में करे। काला धन वापसी मंत्रालय के खिलाफ़ हाय-हाय करे। जिंदाबाद –मुर्दाबाद करे। बदले में मंत्रालय उसको पकड़कर सफ़ेद धन के साथ  बंद कर दे। दोनों का दम घुटने लगे।

अधिकारी लोग अपने उच्चाधिकारियों से लिखकर पूछेंगे –काले धन के पचास हजार करोड़ रुपये विगत तीन माह से आकर खुले में पड़े हुये हैं। उनके धरने की व्यवस्था नहीं है। खुल्ले में पड़े हैं।  सड़ने की आशंका है। कृपया निर्देश दें क्या सलूक करें उनके साथ? निर्देश आने तक शायद कोई दयालू अधिकारी उनको बोरों में भर कर रख दे। कोई बरसात में तिरपाल उढ़ा दे। कोई समझदार अधिकारी कहे –चल तुझे अपने यहां तिजोरी में धर लेते हैं। जब यहां व्यवस्था बन जायेगी तो वापस छोड़ जायेंगे। वहां भी जगह की कमी देख कर उसको बाजार में छोड़ आयेगा। बाजार से किसी रास्ते से फ़िर फ़रार होकर वह जहां से आया था वहीं वापस लौट जाये।

काले धन के रख रखाव पर सेमिनार होंगे। बहसें होंगी। उसके साथ कैसा सुलूक किया जाये इस पर हल्ला मचेगा। कोई कहेगा काले धन के साथ वैसा ही सुलूक किया जाना चाहिये जैसा गद्दारों के साथ होता है। कोई कहेगा अपने ही देश का है उसे बांगलादेशियों की तरह अपना लो। किसी का विचार होगा कि स्विसबैंक के पैसे एन.आर.आई. की तरह व्यवहार किया जाये। उसको रहने के लिये एयरकंडीशनर की व्यवस्था की जाये। युगांडा वाली ब्लैक मनी के साथ देश के गरीबों की तरह सलूक किया जाये- किसी टीन शेड की व्यवस्था की जाये उसके लिये।

कुछ समझ में नहीं आ रहा कैसे सुलूक किया जाये विदेश से आये काले धन के साथ। मन करता है एक बार ईश्वर से पूछकर देखा जाये कि उनके यहां भी अस्सी से भी ज्यादा प्रतिशत ब्लैक मैटर है। वे उसका हिसाब किताब कैसे करते हैं? उसको कैसे वापस लाते हैं अपने कब्जे में। लेकिन वो भला काहे बतायेंगे अपना सीक्रेट।

आप ही कुछ बताइये क्या विचार है आपका।