• HOME
  • BLOG DETAIL
Suraj Kumar Goel

Suraj Kumar Goel

Hindi Font

मैं शराबी, पी जो शराब मयखाने में,

दुनिया रंगीन लगने लगी अपने ही खयालो में।

सपनो की दुनिया में खो जाता हूँ मैं,

जब ये शराब आती है प्यालो में।

 

कहनी है जो बातें,

बह जाती अब वो शराब के धारों में।

पग पग ठोकर खाता,

फिर चलकर पहुँचता किनारो में।

 

मैं शराबी, बनी शराब मेरी दीवानी,

पीता जो शराब, बना मैं नशे की निशानी।

कहते लोग, चला वो मतवाला,

अब बची है मेरी यही कहानी।


English Font

Mai sharabi, pi jo sharab maykhane me,

Duniya rangin lagne lagi apne hi khayalo me.

Sapno ki duniya me kho jaata hun main,

jab ye sharab aati hai pyalo me.

 

Kahni hai jo baaten,

Beh jaati ab wo sharab ke dharon me.

Pag pag thokar khata,

Fir chalkar pahunchta kinaron me.

 

Main sharabi, bani sharab meri diwani,

Pita jo sharab, bana mai nashe ki nishani.

Kehte log, chala wo matwala,

ab bachi hai meri yahi kahani.